जोखिम प्रकटीकरण

कंपनी की आधिकारिक भाषा अंग्रेजी है। कंपनी की गतिविधि के ज्यादा संपूर्ण विवरण के लिए, कृपया साइट के अंग्रेजी संस्करण पर जाएँ। अंग्रेजी के अलावा अन्य भाषाओं में अनुवादित जानकारी केवल सूचना उद्देश्यों के लिए है और उनमें कोई कानूनी बल नहीं है, कंपनी इन भाषाओं में प्रदान की गयी जानकारी की सटीकता के लिए जिम्मेदार नहीं है.

विदेशी मुद्रा और व्युत्पन्नों के साथ संचालन के लिए जोखिम प्रकटीकरण

सामान्य व्यावसायिक शर्तों का संयोजन होने के नाते, इस छोटी चेतावनी का उद्देश्य विदेशी मुद्रा और व्युत्पन्नों के साथ संचालन के सभी जोखिमों और अन्य महत्वपूर्ण पहलुओं का उल्लेख करना नहीं है। जोखिमों पर विचार करते हुए, अगर आप उन अनुबंधों की प्रकृति से परिचित नहीं है जिसमें आप प्रवेश करते हैं, ऐसे अनुबंधों के संदर्भ के अंदर ऐसे संबंधों के कानूनी पहलुओं से परिचित नहीं हैं, या अपने सामने आने वाले जोखिम की मात्रा से परिचित नहीं हैं तो आपको उपरोक्त वर्णित उत्पादों का लेनदेन नहीं करना चाहिए। विदेशी मुद्रा और व्युत्पन्नों के साथ संचालन में बहुत ज्यादा जोखिम होता है, इसलिए यह कई लोगों के लिए उपयुक्त नहीं है। आपको अपने अनुभव, उद्देश्यों, वित्तीय संसाधनों और अन्य महत्वपूर्ण कारकों को ध्यान में रखते हुए इसका अच्छी तरह से मूल्यांकन करना होगा कि इस तरह के संचालन आपके लिए कितने उपयुक्त हैं.

1. विदेशी मुद्रा और व्युत्पन्नों के साथ संचालन

1.1 लीवरेज्ड ट्रेडिंग का मतलब है कि संभावित लाभ बढ़ जाते हैं; इसका यह भी मतलब है कि नुकसान बढ़ जाते हैं। मार्जिन आवश्यकता जितनी कम होती है, बाज़ार आपके विरुद्ध जाने पर आपके नुकसान का जोखिम भी उतना ही ज्यादा होता है। कभी-कभी आवश्यक मार्जिन 0.5% से कम हो सकता है। इस बात का ध्यान रखें कि मार्जिन का प्रयोग करके ट्रेडिंग करते समय, आपके नुकसान आपके शुरूआती भुगतान से ज्यादा हो सकते हैं और शुरुआत में निवेश की गयी राशि से कहीं ज्यादा पैसों का नुकसान होने की संभावना होती है। विदेशी मुद्रा अनुबंधों या व्युत्पन्नों के मूल्य की तुलना में प्रारंभिक मार्जिन की मात्रा छोटी लग सकती है, क्योंकि ट्रेड के दौरान उसमें "लीवरेज" या "गेयरिंग" प्रभाव का प्रयोग किया जाता है। अपेक्षाकृत रूप से बाज़ार की मामूली गतिविधियों का जमा की गयी राशि, या आपके द्वारा जमा करने के लिए उद्दिष्ट राशि पर आनुपातिक रूप से वृद्धिशील प्रभाव होगा। ये परिस्थितियां आपके पक्ष में, या आपके खिलाफ काम कर सकती हैं। अपनी स्थिति का समर्थन करते समय, आप अपने शुरूआती मार्जिन, और कंपनी में जमा की गयी किसी भी अतिरिक्त धनराशि की सीमा तक नुकसान उठा सकते हैं। अगर बाज़ार आपकी स्थिति की विपरीत दिशा में जाना शुरू करता है, और/या आवश्यक मार्जिन की राशि बढ़ जाती है तो आपको अपनी स्थिति का समर्थन करने के लिए तुरंत अतिरिक्त धनराशि जमा करने की जरूरत पड़ सकती है। अतिरिक्त पैसे जमा करने की आवश्यकता को पूरा न कर पाने की स्थिति में कंपनी आपकी स्थिति/स्थितियों को बंद कर सकती है, और किसी भी नुकसान या इसके अतिरिक्त संबंधित पैसों की कमी के लिए सारी जिम्मेदारी आपकी होगी।.

1.2 जोखिम कम करने वाले ऑर्डर और रणनीतियां

कुछ ऑर्डरों का स्थानन (उदाहरण के लिए, "स्टॉप-लॉस" ऑर्डर, अगर यह स्थानीय कानून द्वारा स्वीकृत है, या "स्टॉप-लिमिट" ऑर्डर), जो नुकसान की अधिकतम राशि को प्रतिबंधित करते हैं, उस स्थिति में बेकार हो सकता है जब बाज़ार की स्थिति ऐसे ऑर्डरों का निष्पादन असंभव बना देती है (उदाहरण के लिए, बाज़ार की नकदी पर)। स्थितियों के संयोजन का प्रयोग करने वाली कोई भी रणनीति, उदाहरण के लिए, "स्प्रेड" और "स्ट्रैडल" सामान्य "लम्बी" और "छोटी" स्थितियों से जुड़ी रणनीतियों कम जोखिमपूर्ण नहीं हो सकती हैं।.

2. विदेशी मुद्रा और व्युत्पन्नों के साथ लेनदेन के लिए अतिरिक्त जोखिमों का विवरण

2.1 अनुबंधों में प्रवेश के लिए शर्तें

आपको अपने ब्रोकर से अनुबंधों में प्रवेश करने की शर्तों, और इससे जुड़े किसी भी दायित्वों के बारे में विस्तृत जानकारी पाने की जरुरत होती है (उदाहरण के लिए, परिस्थितियों के बारे में, जिसमें आप एक वायदा अनुबंध की संरचना के अंदर किसी संपत्ति की सौंपने या स्वीकार करने का दायित्व ले सकते हैं, या, किसी विकल्प के मामले में, निष्पादित किये जाने वाले विकल्पों के लिए समय-समाप्ति की तिथियों और समय-सीमाओं के बारे में जानकारी)। कुछ परिस्थितियों में, स्टॉक एक्सचेंज या क्लीयरिंगहाउस संबंधित संपत्तियों के बाज़ार में परिवर्तन को दर्शाने के लिए, अनिश्चित अनुबंध (स्ट्राइक प्राइस सहित) की आवश्यकताओं को बदल सकते हैं।.

2.2 व्यापार का निलंबन या प्रतिबंध। मूल्य सहसंबंध

बाज़ार की कुछ स्थितियां (उदाहरण के लिए, नकदी) और/या कुछ बाज़ारों के संचालन नियम (उदाहरण के लिए, मूल्य परिवर्तनों की सीमाओं में अधिकता की वजह से, अनुबंधों या अनुबंध के महीनों के संबंध में ट्रेड का निलंबन) होने वाले नुकसानों का जोखिम बढ़ा सकते हैं, क्योंकि लेनदेन का निष्पादन करना या स्थितियों को बचाना मुश्किल या नामुमकिन हो जाता है। अगर आप ऑप्शन बेचते हैं तो नुकसान बढ़ सकता है। संपत्ति और व्युत्पन्न संपत्ति की कीमतों के बीच एक अच्छा ठोस परस्पर संबंध हमेशा मौजूद नहीं होता है। किसी परिसंपत्ति के लिए बेंचमार्क मूल्य की अनुपस्थिति एक "उचित मूल्य" का अनुमान लगाना मुश्किल बना सकती है.

2.3 जमा की गयी राशियां और संपत्ति

विशेष रूप से अगर सौदा करने वाली कंपनी का दिवाला या दिवालियापन समस्या हो सकती है तो देश या विदेश में संचालन करते समय, आपको नकद या अन्य परिसंपत्तियों के रूप में आपके द्वारा जमा की गयी प्रतिभूति की सीमाओं के अंदर, सुरक्षात्मक उपकरणों से खुद को परिचित करवा लेना चाहिए। आप अपने नकद या अन्य परिसंपत्तियों को सीमा तक वापस कर सकते हैं वो उस देश के कानून और मानकों के द्वारा नियंत्रित की जाती है जिसमें दूसरा पक्ष अपनी गतिविधियों को अंजाम देता है.

2.4 कमीशन शुल्क और अन्य शुल्क

किसी भी ट्रेड में भाग लेने से पहले आपको सभी कमीशन शुल्क, पारिश्रमिक और अन्य शुल्कों पर स्पष्ट विवरण प्राप्त कर लेना चाहिए, जिनका आपको भुगतान करना पड़ता है। ये खर्च आपके शुद्ध वित्तीय परिणाम (लाभ या हानि) को प्रभावित करेंगे।.

2.5 अन्य न्याय-सीमाओं में लेनदेन

आपके आंतरिक बाजार से औपचारिक रूप से जुड़े बाज़ारों सहित, किसी भी अन्य न्याय-सीमा में बाज़ारों पर लेनदेन का निष्पादन आपके लिए ज्यादा जोखिम ला सकता है। निवेशक की सुरक्षा (सुरक्षा के निचले स्तर सहित) के मामले में उपरोक्त बाज़ारों का विनियमन आपके बाज़ारों से अलग हो सकता है। आपका स्थानीय विनियामक प्राधिकरण अन्य न्याय-सीमाओं में नियामक प्राधिकरणों या बाज़ारों द्वारा निर्धारित नियमों का अनिवार्य अनुपालन सुनिश्चित करने में असमर्थ होती है जिसमें आप अपने लेनदेन करते हैं.

2.6 मुद्रा के जोखिम

आपकी खाते की मुद्रा से अलग किसी विदेशी मुद्रा में दोबारा नामित अनुबंधों के साथ लेनदेन के लाभ और नुकसान विनिमय दर में उतार-चढ़ाव से प्रभावित होते हैं, जब उन्हें अनुबंध की मुद्रा से खाते की मुद्रा में बदला जाता है.

2.7 लिक्विडिटी जोखिम

लिक्विडिटी जोखिम आपके ट्रेड करने की क्षमता को प्रभावित करता है। यह जोखिम होता है कि आपके CFD या परिसंपत्ति उस समय पर ट्रेड नहीं किये जा सकते हैं जब आप उन्हें ट्रेड करना चाहते हैं (नुकसान रोकने के लिए, या मुनाफा बनाने के लिए)। इसके अलावा, CFD प्रदाता के पास एक जमा राशि के रूप में आपको जो मार्जिन बनाए रखने की जरूरत होती है, उसकी आपके द्वारा रखे गए CFD की अंतर्निहित परिसंपत्तियों के मूल्य में बदलाव के अनुसार रोजाना दोबारा गणना की जाती है। यदि यह पुनर्गणना (पुनर्मूल्यांकन) पिछले दिन के मूल्यांकन की तुलना में मूल्य में कमी उत्पन्न करती है, तो मार्जिन स्थिति को बहाल करने और नुकसान की भरपाई करने के लिए आपको तुरंत CFD प्रदाता को नकद भुगतान करना होगा। यदि आप भुगतान नहीं कर सकते तो CFD प्रदाता आपकी स्थिति को बंद कर सकता है, चाहे आप इस गतिविधि से सहमत हों या न हों। आपको नुकसान की भरपाई करनी होगी, भले ही अंतर्निहित परिसंपत्ति की कीमत बाद में ठीक हो जाए। ऐसे CFD प्रदाता मौजूद हैं जो आपके पास आवश्यक मार्जिन न होने पर आपकी सभी CFD स्थितियों को बेच देते हैं, भले ही उनमें से कोई स्थिति उस समय आपके लिए मुनाफा ही क्यों न दिखा रही हो। अपनी स्थिति खुली रखने के लिए, आपको प्रासंगिक मार्जिन की जरूरतों को पूरा करने के लिए CFD प्रदाता को अपने विवेकाधिकार से, अतिरिक्त भुगतान लेने की अनुमति देने के लिए सहमत होना पड़ सकता है (आमतौर पर अपने क्रेडिट कार्ड से)। तेजी से आगे बढ़ते हुए, अस्थिर बाज़ार में इस तरीके से आप आसानी से अपने क्रेडिट कार्ड का बिल बढ़ा सकते हैं।.

2.8 स्टॉप लॉस सीमाएं

नुकसान सीमित करने के लिए कई CFD प्रदाता आपको 'स्टॉप लॉस' सीमाएं चुनने का अवसर देते हैं। यह आपकी पसंद की किसी मूल्य सीमा पर पहुंचने पर अपने आप आपकी स्थिति बंद कर देता है। ऐसी कुछ परिस्थितियां होती हैं जिसमें 'स्टॉप लॉस' सीमा कारगर नहीं होती, जैसे उदाहरण के लिए, तेज मूल्य गतिविधियों, या बाज़ार बंद होने की स्थिति में। स्टॉप लॉस सीमाएं हमेशा आपको नुकसान से नहीं बचा सकती हैं.

2.9 निष्पादन जोखिम

निष्पादन जोखिम इस तथ्य से जुड़ा हुआ है कि ट्रेड तुरंत नहीं लगाए जा सकते हैं। उदाहरण के लिए, आपके द्वारा ऑर्डर किये गए समय और ऑर्डर निष्पादित होने के समय के बीच एक अंतर हो सकता है। इस अवधि में, बाज़ार आपके विरुद्ध जा सकता है। यानी, आपका ऑर्डर उस मूल्य पर निष्पादित नहीं होता जिसकी आपको उम्मीद थी। कुछ CFD प्रदाता आपको बाज़ार बंद होने पर भी ट्रेड करने की अनुमति देते हैं। ध्यान रखें कि इन ट्रेडों के लिए कीमतें अंतर्निहित परिसंपत्ति के समापन मूल्य से काफी अलग हो सकती हैं। कई मामलों में, बाज़ार खुलने पर यह अंतर काफी बड़ा हो सकता है।.

2.10 प्रतिपक्ष जोखिम

प्रतिपक्ष जोखिम वो जोखिम होता है जब CFD जारी करने वाला प्रदाता (यानी, आपका प्रतिपक्ष) दिवालिया हो जाता है और अपने आर्थिक दायित्वों को पूरा करने में असमर्थ होता है। अगर आपकी निधि CFD प्रदाता की निधि से उचित तरीके से अलग नहीं की गयी होती है, और CFD प्रदाता के सामने आर्थिक कठिनाइयां आती हैं तो आपके लिए ट्रेडिंग प्रणालियों में बकाया कोई भी पैसे वापस न मिलने का जोखिम होता है।.

2.11 ट्रेडिंग प्रणालियां

आमतौर पर ज्यादातर "वॉइस" और इलेक्ट्रॉनिक ट्रेडिंग प्रणालियां ऑर्डर निर्धारित करने के लिए, संचालन संतुलित करने के लिए, लेनदेन पंजीकृत और समाप्त करने के लिए कंप्यूटर डिवाइसों का प्रयोग करती हैं। अन्य इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों और प्रणालियों की तरह, इनमें अस्थायी खराबी या गलत संचालन की समस्या आ सकती है। आपके लिए ऐसे नुकसानों की भरपाई की संभावना ट्रेडिंग प्रणालियों के आपूर्तिकर्ता, बाज़ारों, क्लीयरिंगहाउस और/या डीलिंग फर्मों द्वारा निर्धारित दायित्व की सीमाओं पर निर्भर हो सकती है। ऐसी सीमाएँ अलग-अलग हो सकती हैं; इस मामले के संबंध में आपके लिए अपने ब्रोकर से विस्तृत जानकारी प्राप्त करना आवश्यक है.

2.12 इलेक्ट्रॉनिक ट्रेडिंग

किसी भी इलेक्ट्रॉनिक संचार नेटवर्क का प्रयोग करके की गयी ट्रेडिंग न केवल किसी भी सामान्य "ओपन-आउटक्राई" बाज़ार पर किये गए ट्रेड से अलग हो सकती है, बल्कि उस ट्रेडिंग से सभी अलग हो सकती है जहाँ अन्य इलेक्ट्रॉनिक ट्रेडिंग प्रणालियां प्रयोग की जाती हैं। अगर आप किसी इलेक्ट्रॉनिक संचार नेटवर्क पर लेनदेन करते हैं तो आप संचालन के समय हार्डवेयर या सॉफ्टवेयर की खराबी के जोखिम सहित, ऐसी प्रणाली से जुड़े जोखिम उठाते हैं। प्रणाली खराब होने के निम्नलिखित परिणाम हो सकते हैं: आपका ऑर्डर निर्देशों के अनुसार पूरा नहीं हो सकता है; ऑर्डर बिल्कुल भी नहीं हो सकता है; अपनी स्थितियों पर लगातार जानकारी पाना, या मार्जिन आवश्यकताओं को पूरा करना असंभव हो सकता है।.

2.13 ओवर-द-काउंटर संचालन

कई न्यायक्षेत्रों में, कंपनियों को ओवर-द-काउंटर संचालन करने की स्वीकृति प्राप्त है। आपका ब्रोकर ऐसे संचालनों के लिए ब्रोकर के रूप में काम कर सकता है। ऐसे संचालनों की मूल्य विशेषता स्थितियां बंद करने, मूल्य का अनुमान लगाने, या उचित मूल्य या जोखिम का खतरा निर्धारित करने में आने वाली जटिलता या असंभावना में निहित होती है। उपरोक्त कारणों की वजह से, इन संचालनों को बढ़े हुए जोखिमों के साथ जोड़ा जा सकता है। ओवर-द-काउंटर संचालन को नियंत्रित करने वाला विनियमन कम सख्त हो सकता है या कोई विशेष नियामक मोड प्रदान कर सकता है। इस प्रकार के संचालनों के साथ काम करने से पहले, आपको इससे जुड़े नियमों और जोखिमों से परिचित होने की जरूरत पड़ेगी।.

अधिक